सोमवार, 16 जनवरी 2017

Mehrauli Archaeological Park : Balban's Ruins

इस यात्रा वृतांत को शुरू से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

राजों की बावली और सामने वाले कब्रिस्तान की दुर्गन्ध सूंघने के बाद आगे महरौली अर्किलिजीओकल पार्क की तरफ कदम बढ़ा दिए , जंगल में से होकर रास्ता बना है ! आगे पीछे दो दो चार लड़के लड़कियों का ग्रुप चल रहा था और मैं अकेला ! इतिहास के टूटे फूटे पन्नों में इन नौजवानों की रूचि को चलते चलते ही तौल रहा था ! इन्हें सच में इतिहास में रूचि है ? या अवसर , एक मौके की तलाश कर रहे हैं ये लोग , अपनी भावनाओं को खुलकर बह जाने देने के लिए ! खैर , जो भी है !

अच्छा बनाया हुआ और अच्छी तरह मैंटेन किया हुआ है पार्क को ! बहुत सारे लोग मिल जाएंगे घूमते घामते , कुछ मॉडलिंग के शौक़ीन लोग भी बड़े बड़े कैमरों के सामने अपनी हर अदा से दूसरों की आँखों की चमक बढ़ा देते हैं ! आगे शुरुआत होती है एक गहरे कुँए से , जो शायद जहांगीर का कुआँ कहा जाता है ! इसके बाद मेटकॉफ का प्रयोग है जिसके निशान अभी बाकी हैं और लगभग हर जाने वाला उसके साथ खड़े होकर एक फोटो खिंचवाता ही है ! मेटकॉफ के विषय में और ज्यादा जानकारी अगली पोस्ट में आएगी ! यहां से निकलते हैं और अब सीधे बलबन के मक़बरों के खंडहरों की तरफ बढ़ते हैं ! बलबन मतलब गयासुद्दीन बलबन , 1266 ईसवी से 1287 ईसवी तक गुलाम वंश का दिल्ली का शासक रहा ! बलबन , गुलाम वंश का एक प्रितिष्ठित सुलतान रहा है ! और इसी प्रतिष्ठित शासक के ये जो खँडहर हैं ये 19 वीं शताब्दी के मध्य में ढूंढें गए जो आज हमारे लिए देखने लायक जगह हो चुकी हैं !



इन खंडहरों में आपको बलबन का मक़बरा , उसके पुत्र खान शहीद ( जिसका वास्तविक नाम मुहम्मद था ) का मकबरा और उस समय के घरों के कुछ खँडहर देखने को मिलते हैं ! खान शहीद 1285 ईसवी में मंगोलों के साथ युद्ध करते हुए मुल्तान में शहीद हो गया था जिसका मकबरा यहां बनवाया गया ! वैसे बलबन का इतिहास पढ़ें तो आप इसे बहुत रुचिकर समझेंगे , कैसे इसी बलबन को मंगोलों ने बंदी बना लिया था और इसे गज़नी ले जाकर बसरा के ख्वाज़ा जमालुद्दीन के हाथों बेच दिया था ! ख्वाज़ा जमालुद्दीन उसे लेकर दिल्ली आ गए और फिर इल्तुतमिश ने उसे ग्वालियर की विजय के बाद खरीद लिया ! और उसकी योग्यताओं से खुश होकर उसे "खासदार " बना दिया ! स्वामिभक्ति और सेवाभाव के फलस्वरूप वह निरंतर उन्नति करता गया, यहाँ तक कि सुलतान ने उसे चेहलगन के दल में सम्मिलित कर लिया। रज़िया के राज्यकाल में उसकी नियुक्ति अमीरे शिकार के पद पर हुई। बहराम ने उसको रेवाड़ी तथा हांसी के क्षेत्र प्रदान किए।

सन 1245 ईसवी में मंगोलों से लोहा लेकर अपने सामरिक गुण का प्रमाण दिया। आगामी वर्ष जब नासिरुद्दीन महमूद सिंहासनारूढ़ हुआ तो उसने बलबन को मुख्य मंत्री के पद पर आसीन किया। 20 वर्ष तक उसने इस उत्तरदायित्व को बेहतरीन तरीके से निबाहा । इस अवधि में उसके समक्ष जटिल समस्याएँ प्रस्तुत हुईं तथा एक अवसर पर उसे अपमानित भी होना पड़ा, परंतु उसने न तो साहस ही छोड़ा और न दृढ़ संकल्प। वह निरंतर उन्नति की दिशा में ही अग्रसर रहा । सन 1246 ईसवी में दुआबे के हिंदू जमींदारों की उद्दंडता का दमन किया। तत्पश्चात् कालिंजर व कड़ा के प्रदेशों पर अधिकार जमाया। प्रसन्न होकर सन 1249 ईसवी में सुल्तान ने अपनी पुत्री का विवाह उसके साथ किया और उसको नायब सुल्तान की उपाधि प्रदान की। सन 1252 ई. में उसने ग्वालियर, चंदेरी और मालवा पर अभियान किए। प्रतिद्वंद्वियों की ईर्ष्या और द्वेष के कारण एक वर्ष तक वह पदच्युत रहा परंतु शासन व्यवस्था को बिगड़ती देखकर सुल्तान ने विवश होकर उसे बहाल कर दिया। दुबारा कार्यभार सँभालने के पश्चात् उसने उद्दंड अमीरों को नियंत्रित करने का प्रयास किया। सन 1255 ईसवी में सुल्तान के सौतेले पिता कत्लुग खाँ के विद्रोह को दबाया।  सन 1257 ईसवी में मंगोलों के आक्रमण को रोका।  सन 1259 ईसवी में क्षेत्र के बागियों का नाश किया।

नासिरुद्दीन महमूद की मृत्यु के पश्चात् बिना किसी विरोध के बलबन ने मुकुट धारण कर लिया। उसने 20 वर्ष तक राज्य किया। सुल्तान के रूप में उसने जिस बुद्धिमत्ता, कार्यकुशलता तथा नैतिकता का परिचय दिया, इतिहासकारों ने उसकी भूरि भूरि प्रशंसा की है। शासनपद्धति को उसने नवीन साँचे में ढाला और उसको मूलत: लौकिक बनाने का प्रयास किया। वह मुसलमान विद्वानों का आदर तो करता था लेकिन राजकीय कार्यों में उनको हस्तक्षेप नहीं करने देता था। उसका न्याय पक्षपात रहित और उसका दंड अत्यंत कठोर था, इसी कारण उसकी शासन व्यवस्था को लोह रक्त की व्यवस्था कहकर संबोधित किया जाता है। वास्तव में इस समय ऐसी ही व्यवस्था की आवश्यकता थी।

बलबन ने मंगोलों के आक्रमणों की रोकथाम करने के उद्देश्य से सीमांत क्षेत्र में सुदृढ़ दुर्गों का निर्माण किया और इन दुर्गों में साहसी योद्धाओं को नियुक्त किया। उसने मेवात, दोआब और कटेहर के विद्रोहियों को आतंकित किया। जब तुगरिल ने बंगाल में स्वतंत्रता की घोषणा कर दी तब सुल्तान ने स्वय वहाँ पहुँचकर निर्दयता से इस विद्रोह का दमन किया। साम्राज्य विस्तार करने की उसकी नीति न थी, इसके विपरीत उसका अडिग विश्वास साम्राज्य के संगठन में था। इस उद्देश्य की पूर्ति के हेतु के उसने उमराव वर्ग को अपने नियंत्रण में रखा एवं सुलतान के पद और प्रतिष्ठा को बनाया। उसका कहना था कि "सुल्तान का हृदय दैवी अनुकंपा की एक विशेष निधि है, इस कारण उसका अस्तित्व अद्वितीय है।" उसने सिजदा एवं पायबोस की पद्धति को चलाया। उसका व्यक्तित्व इतना प्रभावशाली था कि उसको देखते ही लाग संज्ञाहीन हो जाते थे। उसका भय व्यापक था। उसने सेना का भी सुधार किया, दुर्बल और वृद्ध सेनानायकों को हटाकर उनकी जगह वीर एवं साहसी जवानों को नियुक्त किया। वह तुर्क जाति के एकाधिकार का प्रतिपालक था, अत: उच्च पदों से अतुर्क लोगों को उसने हटा दिया। कीर्ति और यश प्राप्त कर वह सन 1287 ई. के मध्य परलोक सिधारा। बलबन के दरबारी फ़ारसी कवि आमिर खुसरो और आमिर हसन थे ! नाशिरुद्दीन महमूद ने बलबन को उलुग खान की उपाधि दी ! बलबन ने फ़ारसी त्यौहार नवरोज प्रारम्भ करबाया ! सिजदा और पेबोस एक प्रकार की सम्मान करने की पद्धति थी जिसमें सुल्तान को लेट कर सम्मान देते थे और सुल्तान का ताज और पैर पर चुमते थे ! बलबन ,दिल्ली को मंगोलों के आक्रमण से रक्षा करने में सफल रहा और अंत में तुरकन ए चहल्गामी का नाश किया जिसे इल्तुत्मिस ने बनाया था ! 
इतिहास में जिसकी रूचि नहीं होती उसके लिए ऐसी पोस्ट झेलना मुश्किल हो जाता है , मैं जानता हूँ ! लेकिन देखते हैं ? कितने लोग हिम्मत दिखाते हैं : 

मेटकॉफ का प्रयोग  (Metcalfe Foli )

मेटकॉफ का प्रयोग स्थल से दिखाई देता कुतुबमीनार( Qutub Minar seen from Metcalfe Folly )





बलबन के ज़माने के घरों के अवशेष( Ruins of Houses of Balban's era)



बलबन की कब्र ( Grave of Balban)


Balban's Tomb
Balban's Tomb

Some more Ruins of Houses

Some more Ruins of Houses



गुरुवार, 12 जनवरी 2017

ताक धिना धिन ताके से.......Part- 4 ( Final)

अगर आप इस कहानी को शुरू से पढ़ना चाहते हैं तो यहां क्लिक करिये और अगर तारतम्य बनाने के लिए पिछले अंक पर लौटना चाहते हैं तो कृपया यहां अपना कर्सर ( Cursor ) लाकर हिट करिये !! अब तक आपने पढ़ा कि बकरी को पहाड़ से नीचे लाने के लिए लड़का , खरगोश और गिलहरी अपनी अपनी कोशिश कर चुके हैं अब आइये आगे बढ़ते हैं :



गीदड़ बोला :
तुम मत रो ओ
मैं बकरी को पहाड़ से उतारूँगा 
गीदड़ पहाड़ पर चढ़ने लगा
और बकरी के पास पहुंचा
गीदड़ ने बकरी को बुलाया
बकरी नहीं आई
वो और ऊपर चढ़ गई
अब गीदड़ भी रोने लगा
उसने दिल में सोचा
पहाड़ ऊँचा है
उसके नीचे दरिया बहता है
कहीं बकरी पहाड़ से न गिर जाए ?
कहीं बकरी दरिया में डूब न जाए ?
सोचकर गीदड़ जोर जोर से रोने लगा
गीदड़ लड़के , खरगोश और गिलहरी के पास आया
उन के पास बैठ गया
उन के साथ मिल कर बोला -

ताक धिना धिन ताके से
मामा कुंवर मर गई फ़ाक़े से


वहां कहीं पास ही एक हिरन रहता था
वो लड़के के पास आया
उसे घूरकर देखा
वो खरगोश के पास आया
उसे घूरकर देखा
वो गिलहरी के पास आया
उसे घूरकर देखा
वो गीदड़ के पास आया
उसे घूरकर देखा
फिर हिरन ने चारों से पूछा :
जंगल में खैर तो है ?
तुम क्यों रो रहे हो ?
सब मिल कर बोले -
मामा कुंवर की बकरी पहाड़ पर चढ़ गई है
पहाड़ ऊंचा है
उसके नीचे दरिया बहता है
कहीं बकरी पहाड़ पर से गिर न जाए ?
कहीं बकरी दरिया में डूब न जाए ?
इसलिए हम रोते हैं
अब चारों मिल कर बोले :

ताक धिनाधिन ताके से
मामा कुंवर मर गई फ़ाक़े से


हिरन ने कहा :
तुम मत रोओ
मैं बकरी को पहाड़ से उतारूँगा
अब हिरन पहाड़ पर चढ़ने लगा
वो बकरी के पास पहुंचा
बकरी को बुलाया
बकरी नहीं आई
वो और ऊपर चढ़ने लगी !
हिरन ने सोचा
पहाड़ ऊंचा है
उसके नीचे दरिया बहता है
कहीं बकरी पहाड़ से गिर न जाए
कहीं बकरी दरिया में डूब न जाए
ये सोचकर हिरन जोर जोर से रोने लगा
हिरन , लड़के , खरगोश , गिलहरी , गीदड़ के पास आया
वो उनके पास आकर बैठ गया
और उनके साथ मिल कर बोला -

ताक धिनाधिन ताके से
मामा कुंवर मर गई फ़ाक़े से


वहां पास ही ततैया या भिड़ों ( Wasps ) के झुण्ड का छत्ता था
भिड़ों के छत्ते में भिड़ों की रानी रहती थी
वो लड़के के पास आई
उसे घूरकर देखा 
वो खरगोश के पास आई
उसे घूरकर देखा
वो गिलहरी के पास आई
उसे घूरकर देखा
वो गीदड़ के पास आई
उसे घूरकर देखा
वो हिरन के पास आई , उसे घूरकर देखा
उसने लड़के , खरगोश , गिलहरी , गीदड़ और हिरन से पूछा :
तुम क्यों रो रहे हो ?
जंगल में खैर तो है ?
सब मिल कर बोले :
मामा कुंवर की बकरी पहाड़ पर चढ़ गई है
पहाड़ ऊंचा है !
उसके नीचे दरिया है
बकरी कहीं पहाड़ पर से गिर न जाए
बकरी कहीं दरिया में डूब न जाए
इसलिए हम रोते हैं
अब सब मिल कर बोले :

ताक धिनाधिन ताके से
मामा कुंवर मर गई फ़ाक़े से


भिड़ों की रानी बोली :
तुम रोओ मत !
मैं बकरी को पहाड़ से उतारूंगी
अब भिड़ों की रानी उड़ी
उड़ते उड़ते बकरी के पास पहुंची
उसने बकरी के कान में " भिन भिन " कहा
तुम नीचे उतरो !
पहाड़ पर मत चढ़ो
पहाड़ ऊंचा है
नीचे दरिया है
तुम्हारा कहीं पाँव न फिसल जाए
फिर तुम कहीं पहाड़ पर से गिर न जाओ
फिर तुम कहीं दरिया में डूब न जाओ
भिड़ों की रानी की बात बकरी की समझ में आ गई
वो पहाड़ से नीचे उतरी
वो लड़के के पास आई 

लड़के से बोली -
चलो घर चलें !
मामा कुंवर के पास चलें 
लड़का उठा
खरगोश उठा
गिलहरी उठी
गीदड़ उठा
हिरन उठा
सब एक कतार में खड़े हो गए
भिड़ों की रानी उड़ती रही
सब मिल कर बोले -
ताक धिनाधिन ताके से
मामा कुंवर मर गई फ़ाक़े से
सब जानवर अपने घरों को चल दिए
लड़का बकरी लेकर मामा कुंवर के घर गया
मामा कुंवर ने लड़के को खूब दूध पिलाया
मामा कुंवर फिर जोर से ताली बजाकर बोली : 

ताक धिनाधिन ताके से
मामा कुंवर मर गई फ़ाक़े से !!





************************** जय हिन्द !! जय हिन्द की सेना !!**************************


मंगलवार, 3 जनवरी 2017

Rajon Ki Baoli : Mehrauli

दिल्ली की और पोस्ट पढ़ने के लिए यहां क्लिक करिये !

दिल्ली ! ये दिल्ली है ! कितनी बार लुटी , लूटी गई लेकिन फिर से उठ खड़ी हुई , बार बार और हर बार ! जितनी बार खंडहर हुई उतनी ही बार कोई न कोई आया इसका भविष्य सुधारने को और वो दिल्ली जो आज है,  ऐसे ही किसी कजरू - पजरु ने नहीं बना दी ! लोगों का पसीना और खून बहा है इस दिल्ली को सलामत और जिंदादिल रखने में ! और जब भी मुझे मौका मिलता है , निकल जाता हूँ इसी दिल्ली की ख़ाक छानने को ! ज्यादा कुछ सोचना नहीं पड़ता दिल्ली जाने को ! मैट्रो कार्ड जेब में पड़ा होता ही है और बस घर से कैमरा उठाना होता है ! जितनी बार दिल्ली जाता हूँ और जब लौटकर आता हूँ तो ये मुझसे पूछती है - अभी बहुत कुछ रहा गया है देखने को ! फिर कब आएगा ? और मैं भी इसे अपनी बूढी माँ की तरह दिलासा देकर वहां से चल देता हूँ , जल्दी ही आऊंगा ! फिर से ! छुट्टी मिलते ही !




दिल्ली ऐतिहासिक रूप से कुल सात शहरों से मिलकर बना एक शहर है ! ये सात शहर हैं :

1 . किला राय पिथौरा

2 . महरौली

3 . सीरी

4 . तुगलकाबाद

5 . फ़िरोज़ाबाद

6 . शेरगढ़ और

7 . शाहजहाँनाबाद

अब आप कह सकते हैं कि आठवाँ शहर "नई दिल्ली " भी इसी में शामिल हो गया है ! इनमें से कुछ देखे हैं , कुछ देखने बाकी हैं ! इनमें से किला राय पिथौरा के केवल कुछ अवशेष ही बाकी हैं ! हाँ , अगर आप मुझसे पूछेंगे तो मैं कहूंगा कि इन सभी सात शहरों में से मुझे महरौली सबसे ज्यादा आकर्षित करता है ! महरौली का जैसे हर पत्थर , हर गली , हर दरवाज़ा अपने आप में एक इतिहास है और उसे खोलकर बैठें तो एक पूरा लंबा चौड़ा इतिहास खुलकर आ जाएगा ! यूँ महरौली पहुंचना कोई कठिन नहीं है लेकिन सुविधाजनक माध्यम देखें तो मैट्रो ज्यादा बेहतर है ! येल्लो लाइन के क़ुतुब मीनार स्टेशन से उतरकर , पैरों में जान है तो पैदल ही मार्च कर लो यहां तक पहुँचने के लिए या फिर 5 रुपल्ली देकर बस में बैठ जाओ ! ज्यादा पैसे खर्च करने हैं तो फिर ऑटो रिक्शा तो है ही ! आप कैसे भी पहुंचे , महरौली अपने राजाओं , सुल्तानों , जनरलों , योद्धाओं , संत महात्माओं की गाथाएं लेकर आपके स्वागत के लिए हमेशा तैयार दीखता है ! ये जगह पांडवों से भी सम्बंधित रही है ! तो थोड़ा सा इसका अपना इतिहास भी लिखना तो जरुरी हो ही जाता है ! है , न ?

सर्वप्रथम प्रतापी राजा पृथ्वीराज चौहान ने लाल कोट की दीवारें खड़ी कर के राजा अनंगपाल की दिल्ली को एक व्यवस्थित शहर का रूप देना शुरू किया लेकिन सन 1192 ईसवी में तराइन के युद्ध में मुहम्मद गोरी ने पृथ्वीराज चौहान को पराजित कर , कुतुबुद्दीन ऐबक को अपना "वाइसराय " बनाकर दिल्ली भेजा ! मुहम्मद गोरी की 1206 ईसवी में मौत के बाद कुतुबुद्दीन ऐबक ने स्वयं को दिल्ली का सुल्तान घोषित कर दिया और इस तरह मामलुक यानि गुलाम वंश की शुरुआत हुई ! इस युग में कुतुबुद्दीन ऐबक ने बहुत से हिन्दू प्रतिष्ठानों को नष्ट कर डाला और अपने गुरुओं , धार्मिक व्यक्तियों के मक़बरे आदि बना डाले !

महरौली आर्किलॉजिकल पार्क ( Mehrauli Archaeological Park ) में आपको एक से एक पुराने मोनुमेंट्स देखने को मिल जाएंगे ! मतलब पूरे दिन का मामला बन जाता है ! क़ुतुब मीनार तो आपने देखा ही होगा ! मैं आज उसकी बात नहीं करूँगा , आप चाहें तो कुतुबमीनार की मेरी पोस्ट पढ़ने के लिए यहां क्लिक कर लें ! आज कुछ अलग सा देखने चलते हैं !

गंधक की बावली :
आप समझो कि आप महरौली के बस स्टैंड पहुँच गए ! थोड़ा सा यानि 100 कदम पीछे लौटिए , आपको योगमाया मंदिर का बोर्ड दिखेगा , दर्शन कर आइयेगा ! मंदिर बहुत सुन्दर भले न हो लेकिन प्राचीन है और भगवान श्री कृष्णा की बहन को समर्पित है ! वापस लौटिए फिर से महरौली के बस स्टैंड पर ही , सामने आदम खान का मक़बरा है ! इसे देखिये , घूमिये और आदम खान के मकबरे के सामने ही अग्रवाल स्वीट्स के यहां बैठकर दो कचौड़ी खाइये ! भूख भी तो लग गई होगी आपको ! पानी पीजिये और इसी रास्ते पर आगे बढ़ते जाओ , उल्टे हाथ पर पोस्ट ऑफिस मिलेगा और सीधे हाथ पर महरौली थाना ! उल्टे हाथ की तरफ मुड़ जाइये , गलियों से निकलते हुए एक दरगाह मिलेगी , किसकी है ? याद नहीं ! शायद बख्तियार काकी की दरगाह है ! जैसे ही आप दरगाह पार करेंगे एक रोड आ जाती है और उसी रोड के दूसरी तरफ है गंधक की बावली ! नाम वैसे सही है लेकिन यहां की गन्दगी देखकर कहेंगे कि इसका नाम " गंद की बावली" होना चाहिए था ! गंधक की बावली गुलाम वंश के दौरान 13 वीं शताब्दी में बनवाई गयी थी , इसका और ज्यादा इतिहास मुझे नहीं मालुम !


राजों की बावली :
इसी रोड पर आगे चलते जाइये , एक जंगल सा मिलेगा ! अकेले हैं तो इसमें अंदर जाते हुए डर सा लगेगा लेकिन डर वाली कोई बात नहीं है ! रोड के किनारे जहां सबसे ज्यादा बदबू आये , वहीँ से एक रास्ता इस जंगल में जाता है ! बदबू इसलिए क्योंकि वहां "कूड़ा घर " है ! ये मेरे नहीं बल्कि मित्रवर अमित तिवारी जी के शब्द हैं जब मैंने उनसे रास्ता पूछा था फोन पर ! करीब 50 मीटर अंदर जाते ही रास्ता मिल जाता है जहां मार्किंग पिलर लगे हुए हैं ! फोटो खींचते हुए , जंगल में मंगल करते हुए राजों की बावली पहुँच जाते हैं ! सामने ही कब्रिस्तान है जहां न जाने कितने तुर्रम खां जमीन के नीचे दबे पड़े होंगे ! वो तुर्रम खां जिनकी एक घुड़की से कई लोगों की सांस अटक जाती होगी ! समय बड़ा बलवान होता है !!

राजों की बावली वास्तव में राजाओं की बावली नहीं है ! इसका मूल नाम राजों की बावली है ! राज मतलब राज मिस्री , जो घर -दीवार बनाते हैं ! तो अगर अंग्रेजी में कहें तो Its not a step well of kings but step well of Masons !! सिकंदर लोधी के शासन में दौलत खान द्वारा 1516 ईसवी में बनवाई गयी ये बावली तीन मंजिल की है और गंधक की बावली की तुलना में ज्यादा साफ़ सुथरी और व्यवस्थित है ! इसके बराबर में ही एक मस्जिद भी है ! हालाँकि लोग मस्जिद देखने नहीं बल्कि बावली देखने जाते हैं ! बावली की जो दीवारें हैं उन पर उर्दू / फ़ारसी में कुछ गुदा ( inscripted ) हुआ है ! शायद क़ुरआन की आयतें होंगी लेकिन उर्दू पढ़ -लिख लेने के बावजूद में "अल्लाह " के अलावा और कुछ नहीं पढ़ पाया !  इसके दोनों तरफ के कोने में सीढियां बनी हैं जहां से आप ऊपर जाकर बावली का विहंगम नजारा देख सकते हैं और सामने की तरफ नजर जायेगी तो महरौली के दूसरे मोनुमेंट्स भी दिखाई दे जाएंगे ! हाँ , अगर गर्मी में जाएँ तो पानी की बोतल जरूर साथ रखियेगा , पानी यहां आसपास कहीं नहीं मिलेगा ! वैसे भी जंगल ही तो है चरों तरफ !

इसके सामने ही एक कब्रिस्तान है ! जहां कुछ कब्र ठीक हालात में हैं तो कुछ एकदम से ख़त्म हो चुकी हैं ! अब ये जगह जुएबाजों का घर बन गई है ! एक कोई बड़ा सा गुम्बद है लेकिन किसका है , मुझे नहीं मालूम ! अब तक जितना भी रास्ता आपने तय किया है उसमें छोटी छोटी कई मुग़ल जमाने की गुमटियां मिल जाएंगी ! हाँ , और दिल्ली मुम्बई की कल्चर के "नमूने " तो मिलेंगे ही ! अब उनको इग्नोर करने की आदत सी हो गई है ! ज्यादा नहीं सोचता इस बारे में और न ज्यादा ध्याद देता हूँ ! इन दो बावलियों के अलावा दिल्ली में दो बावली और हैं , एक है कनॉट प्लेस में महाराजा उग्रसेन की बावली और दूसरी राजा अनंगपाल की बावली ! इसमें से उग्रसेन कीबावली देखि हुई है और राजा अनंगपाल की बावली देखनी बाकी है !  यहां से निकालने के बाद आप महरौली पार्क की तरफ बढ़ जाते हैं , जहां बहुत पुराने मोनुमेंट्स हैं , लेकिन वो अगली पोस्ट में !


आगे मिलते हैं जल्दी ही एक और पोस्ट लेकर :



गंधक की बावली या गंध की बावली ? Step well of Sulphur or Step Well of Ordure ??

गंधक की बावली या गंध की बावली  ?

ऐसे marking pillar आपको पूरे रस्ते मिलेंगे 
मुग़लकालीन दीवारों के अवशेष( Ruins of Walls of Mughal e

मुग़लकालीन दीवारों के अवशेष ( Ruins of Walls of Mughal Period )

Gumti of Mugal Period
राजों की बावली( Baoli of Masons )

राजों की बावली( Baoli of Masons )

राजों की बावली( Baoli of Masons )




राजों की बावली तीन मंजिल की बाओली है( Mason's Baoli is three story Baoli)







रंग अब भी जिन्दा हैं (  Colors are still alive )

रंग अब भी जिन्दा हैं (  Colors are still alive )

Top of the tomb

मेरे यहां इसे "तिखाल " कहते हैं और आपके यहाँ ? Decorative Alcove






कब्रिस्तान ( Graveyaard opposite to Rajon Ki Bawali) 

 न जाने कितने " तुर्रम खां " यहां दफ़न होंगे ( Who Knows how many cleric or sergeant laid here )


Add caption


किसी की भी गर्दन ऊपर नहीं है ! इस फोटो का मतलब बस इतना ही बताना था कि मोबाइल फ़ोन हमारा कितना समय खा जाता है !




पता नहीं कब का है ,  क्या है ? लेकिन जंगल में अंदर मिला ! शायद ये भी कोई न कोई गुमटी होगी मुग़ल ज़माने की !



 मिलते हैं जल्दी ही ! तब तक राम राम !!






बुधवार, 28 दिसंबर 2016

ताक धिना धिन ताके से.......Part- III

अगर आपको ये उर्दू कहानी पढ़ने में आनंद आ रहा है और आप इसे शुरू से पढ़ना चाहते हैं तो आपको यहाँ क्लिक करना पड़ेगा !! और अगर पिछले अंक से पढ़ना चाहते  हैं तो यहाँ क्लिक करें !! आइये आगे पढ़ते हैं :...............

ख़रगोश बोला -
मियाँ लड़के मत रो !
मैं तुम्हारी मदद करूँगा
मैं बकरी को पहाड़ से उतार कर लाऊंगा

अब ख़रगोश पहाड़ पर चढ़ने लगा
ख़रगोश बकरी के पास पहुंचा
बकरी को बुलाया
बकरी नहीं आई
वो ऊपर चढ़ने लगी !!

अब ख़रगोश डरा
दिल में सोचा
पहाड़ ऊंचा है
नीचे दरिया है
कहीं बकरी गिर न जाए !
दरिया में डूब न जाए !
ये सोच कर खरगोश लड़के के पास आया
लड़के के पास आकर जोर से चिल्लाया -

ताक धिना धिन ताके से
मामा कुंवर मर गई फ़ाक़े से !!



फिर जोर जोर से रोने लगा !!
अब लड़का भी खरगोश के साथ रोने लगा

दोनों के रोने की आवाज़ से जंगल गूँज उठा
पास के किसी पेड़ पर एक गिलहरी रहती थी
वो रोने की आवाज़ सुन कर पेड़ पर से उतरी -
पहले लड़के के पास आई
उसे घूर कर देखा
फिर खरगोश के पास आई
उसे घूर कर देखा
दोनों से पूछा -

भैया , क्यों रो रहे हो ?
जंगल में खैर तो है ?
दोनों बोले :
बहन गिलहरी क्या बतायें -
मामा कुंवर की बकरी नहीं मानती
वो पहाड़ पर से नीचे नहीं उतरती
हम डरते हैं
कहीं पहाड़ पर से गिर न जाए !
नीचे दरिया है
उस में डूब न जाए
फिर दोनों दहाड़ मार कर रोने लगे
और चिल्लाने लगे -

ताक धिना धिन ताके से
मामा कुंवर मर गई फ़ाक़े से !!


गिलहरी बोली -
भैया , मत रोओ
मैं बकरी को पहाड़ पर से उतार लाऊंगी
बकरी पहाड़ पर से नहीं गिरेगी
बकरी दरिया में नहीं डूबेगी
ये कह कर गिलहरी पहाड़ पर चढ़ने लगी

गिलहरी बकरी के पास पहुंची
बकरी को बुलाया
वो और ऊपर चढ़ गई
अब गिलहरी दहाडें मारकर रोने लगी
और दिल में सोचा -
पहाड़ ऊंचा है
नीचे दरिया है
कहीं बकरी गिर न जाये
कहीं बकरी डूब न जाये

अब गिलहरी जोर जोर से रोने लगी -
वो लड़के और ख़रगोश के पास आई
दोनों के पास आकर बैठी
तीनों मिल कर बोले -

ताक धिना धिन ताके से
मामा कुंवर मर गई फ़ाक़े से !!


वहां पास कहीं एक गीदड़ रहता था
उसने लड़के , ख़रगोश और गिलहरी की आवाज़ सुनी
पहले वो लड़के के पास आया
उसे घूर कर देखा
फिर वो खरगोश के पास आया
उसे घूर कर देखा
फिर वो गिलहरी के पास आया
उसे घूरकर देखा
तीनों से पूछा -

तुम क्यों रो रहे हो ?
जंगल में खैर तो है ?
तीनों बोले :
चचा गीदड़ ! खैर नहीं है !
मामा कुंवर की बकरी पहाड़ पर चढ़ गई है
पहाड़ ऊँचा है
उस के नीचे दरिया बहता है
बकरी कहीं पहाड़ से गिर न जाये
बकरी कहीं दरिया में डूब न जाये
इसलिए हम रोते हैं
फिर तीनों जोर चीखे :

ताक धिना धिन ताके से
मामा कुंवर मर गई फ़ाक़े से !!



जारी रहेगी : 



गुरुवार, 22 दिसंबर 2016

Kausani : A well known hill station

इस यात्रा वृतांत को शुरू से पढ़ना चाहें तो आप यहां क्लिक कर सकते हैं !



हेड़ाखान मंदिर से लौटकर फिर से होटल पहुंचे , सामान उठाया और फिर से चल दिए रोडवेज बस स्टैंड की तरफ ! इधर से उधर होते रहे , कभी नीचे की तरफ जाओ कभी ऊपर की तरफ आओ ! कौसानी की कोई बस नही थी उस वक्त तो किसी ने बताया कि यहाँ से सोमेश्वर चले जाओ , लेकिन सोमेश्वर की भी न आई बस न जीप ! कुछ देर में एक जीप वाला आया और बोला - कहाँ जाएंगे ? सोमेश्वर ! सोमेश्वर तो नहीं लेकिन आपको बिन्ता छोड़ दूंगा वहां से आपको सोमेश्वर की जीप मिल जायेगी ! चल भैया ! बिन्ता में कोई मेला लगा था , छोटी सी रोड और उसके दोनों तरफ मेला , जैसे तैसे जीप निकल पाई ! जैसे ही जीप से उतरे , सामने ही सोमेश्वर की जीप लगी थी ! इस समय चार बजे थे ! सोमेश्वर से एक रास्ता द्वाराहाट के लिए भी जाता है और एक बैधनाथ धाम के लिए भी ! बैधनाथ में मंदिरों की एक पूरी श्रृंखला है , मैंने देखा नहीं कभी लें जाऊँगा जरूर ! शाम को सात बजे के आसपास हम कौसानी के अनाशक्ति आश्रम में थे , वो ही अनाशक्ति आश्रम जहाँ कभी गाँधी जी रुके थे हिमालय दर्शन के लिए ! एक दिन का 400 रुपया किराया है उसका , पहले कभी मुफ्त चलता होगा अब नहीं है ! अब किराया देना पड़ता है ! कौसानी का जो मुख्य बाजार है , वैसे तो एक ही बाजार है उसे चाहे मुख्य कह लो और कुछ और ! तो जो गोल चक्कर है उसके बराबर में ऊपर की तरफ सीढियां जाती हैं , बस सीधे चलते जाओ , अनाशक्ति आश्रम मिल जाएगा ! रानीखेत से भी ज्यादा ठण्ड थी यहाँ ! लेकिन अब हमारे पास गर्म कपडे हैं , कोई दिक्कत नहीं !


पुराने ज़माने के कमरे बने हुए हैं , लकड़ी के ! हाँ , वाशरूम पश्चिमी स्टाइल के हैं ! चाय दे गया था कोई और बता गया था कि खाना अगर खाना चाहें तो 9 बजे भोजनालय में आ जाइयेगा ! खाना बहुत सिंपल लेकिन बहुत ही स्वादिष्ट ! जब सब लोग लाइन में बैठे तब पता चला कि इस आश्रम में हमारे अलावा और लोग भी ठहरे हुए हैं ! दाल चावल सब्जी रोटी ! कुछ भी अलग नही लेकिन बहुत अच्छा लगा ! जो आदमी थोड़ी देर पहले मेनेजर था , वो ही अब खाना भी परोस रहा था ! मल्टी टैलेंटेड !! चलते हैं , अब सोयेंगे !


सुबह ठीक 6 बजे कुण्डी खटक गयी दरवाज़े की , चाय देने आया था ! दो चाय लेकर उसे आठ बजे फिर से चार चाय लाने को बोल दिया और चाय पीकर फिर सो गए ! थके - हारे बच्चे भी सोये पड़े थे , फ़ोन घनघनाया ! सर - कॉलेज की बस नहीं आई ? मैडम मैं कौसानी में हूँ ! नींद ख़राब हो गयी ! नौ बजे तक सब तैयार होकर नाश्ता करने पहुंचे तो नाश्ता खत्म हो चुका था , चलो बाहर करेंगे !

कौसानी की एक बात बड़ी अजीब सी लगी , इसका आधा हिस्सा अल्मोड़ा जिले में है और आधा हिस्सा बागेश्वर जिले में पड़ता है ! आप अगर अनाशक्ति आश्रम में हैं तो आपको रात में बागेश्वर का बहुत खूबसूरत नजारा देखने को मिलता है !!

सबसे पहले हिंदी के महान कवि सुमित्रा नंदन पन्त जी का घर देखने चलते हैं , पास में ही है ! वैसे कौसानी में सब कुछ पास में ही है ! उसके बाद चाय बागान देखने चलते हैं , हम सब पहली बार चाय के बागान देखेंगे ! वैसे मेरी ये समझ में नहीं आया कि वैसे तो सब चीज के बाग होते हैं जैसे सेब के बाग , आम के बाग़ तो चाय के बाग़ को ही बागान क्यों कहते हैं ? बताइयेगा ! कार वाला 400 रूपये मांग रहा है , शेयर्ड जीप जाती नहीं , या जाती भी होगी तो हमें नहीं मालुम ! आखिर उसी से 250 रूपये में बात हो गयी ! हमें आज ही वापस लौटना है गाजियाबाद ! तो बागान देखकर सामान उठाकर चलते बनेंगे ! बच्चों की तबियत गड़बड़ा गयी है , नहीं तो हमारा तो रिजर्वेशन काठगोदाम से 6 नवम्बर का है और आज 4 ही नवम्बर है ! रिजर्वेशन कैंसिल करा दूंगा ! बच्चों का ख्याल पहले है , पैसे की बात बाद में ! लेकिन इस ट्रिप में मैंने दोनों तरफ का रिजर्वेशन कराया था , इधर से जाने का रेलवे ने कन्फर्म नहीं किया और उधर से हमने कैंसिल कर दिया ! हिसाब बराबर ! चलो जी , वापस गाज़ियाबाद चलते हैं !!


राम राम !!



ये कीनो हैं , संतरे नहीं












बताइये कितने बन्दर हैं इस तस्वीर में ? तीन या पांच







इसमें पन्त जी के साथ अमिताभ बच्चन के पिता जी भी हैं


          



















शॉल बनाने की मशीन


शॉल बनाने की मशीन

थोड़ा ट्राय करके देखते हैं

थोड़ा ट्राय करके देखते हैं ! मैं क्यों पीछे रह जाऊं
बाय बाय रानीखेत -कौसानी !! प्यारा सा पुष्प आपके लिए , मेरी तरफ से नाव वर्ष की शुभकामनाएं