गुरुवार, 22 मार्च 2012

फूलों की खुशबू लौट आई है………….

फूलों की खुशबू लौट आई है एक तेरे आने से |

हर ख़ुशी मेरे पास आई है एक तेरे आने से ||



रफ्ता रफ्ता बढ़ रहा था मैं मौत की ज़ानिब

मेरी जिंदगी लौट आई है एक तेरे आने से ||



तेरे बिना जैसे महक नहीं थी गुलशन में

हर कली मुस्कराई है एक तेरे आने से ||



तू गई तो चाँद की चांदनी भी गई

रात की चमक लौट आई है एक तेरे आने से ||



बात बिगड़े भी तो रिश्ते नहीं टूटा करते

सदा -ए -इश्क लौट आई है एक तेरे आने से ||



मैं तो बस एक तिफ्ल था ‘ योगी ‘ इस भरे ज़माने में
पूरी दुनियां मेरे कदमों में सिमट आई है एक तेरे आने से ||

एक टिप्पणी भेजें