शुक्रवार, 4 मार्च 2016

Photo Blog -Agra Fort

 हम परिवार सहित चित्तौड़गढ़ से लौटते हुए आगरा का लाल किला घूम कर आये ! मुझे यूँ मुगलों के बनाये महल -मकबरे बिलकुल भी पसंद नही हैं लेकिन छोटे छोटे बच्चों की इच्छा का दमन करना भी गलत है ! इसीलिए आज मुगलों के बनाये इन गुलामी के प्रतीकों पर मैं एक भी शब्द नही लिखूंगा !! केवल फोटो देखिये :








26 जनवरी थी और कोहरा 11 बजे तक पड़ता रहा !!














पापा ! कैसा लग रहा हूँ मैं ? पारितोष

राम -लखन की जोड़ी ! न न हर्षित और पारितोष की जोड़ी












आज  ऊँगली पकड़ के तेरी मैं तुझको गिरने से बचाऊँ
कल हाथ थामना मेरा , जब मैं बूढ़ा हो जाऊं !!



















एक टिप्पणी भेजें