गुरुवार, 6 अप्रैल 2017

Amber Fort : Jaipur

इस यात्रा वृतांत को शुरू से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये !

विचार ये था कि पहले आसपास का जो भी कुछ है वो देख लें और फिर जयपुर शहर से दूर की जगह देखी जाएँ लेकिन बारिश ने सब गड़बड़ कर दिया ! तो विचार बनाया कि अब पहले " आमेर किला " चलते हैं ! बस यहीं हनुमान जी के मंदिर के पास ही मिल जायेगी , प्राइवेट भी और सरकारी भी ! 15 रूपये का टिकेट है और ये जो हनुमान मंदिर की बात कर रहा हूँ वो हवा महल के पिछले हिस्से यानि कि रोड की साइड में ही है ! आसपास मैट्रो का काम चल रहा है जिससे कीच खच्चड़ हुआ पड़ा था , लेकिन कुछ महीने -साल बाद यही कीच कच्चड़ मेट्रो के रूप में अच्छा और सुविधाजनक लगने लगेगा और हम भी लौटकर इसकी तारीफ करेंगे ! और हाँ , बस का इंतज़ार करते करते वहां पकौड़ी जरूर खा लीजियेगा , अच्छी बनाता है पेड़ के नीचे की दुकान वाला !

                            


महिला कंडक्टर थी बस में , अजीब तो नही लेकिन सुखद लगा ये देखकर कि महिलाएं हर क्षेत्र में अपने पाँव जमा रही हैं ! ये दूसरी बार था जब मैं किसी महिला को बस कंडक्टर के रूप में देख रहा था ! इससे पहले एक महिला को मेरठ - ग़ाज़ियाबाद के रूट पर देखा है , मोटी सी है और अपनी सीट से उठती नहीं हैं टिकेट देने के लिए ! लेकिन ये मेरठ वाली मोहतरमा अनुबंधित बस कंडक्टर हैं और वो जयपुर वाली महिला सरकारी कर्मचारी ! एक अंतर और है , मेरठ वाली मोहतरमा विवाहित हैं और जयपुर वाली अविवाहित लगीं मुझे , हालाँकि मुझे इस बात से क्या लेना देना , मैं पहले से ही विवाहित हूँ और दो "शैतान " पुत्रों का पिता भी हूँ ! आप गलत समझ रहे थे मेरे बारे में :-) है न ? कोई नही , होता है !


तो जी,  लो आ गए आमेर ! आ तो गए लेकिन बारिश अभी भी हो रही है ! उतरे और अंदर भागकर एक सीमेंट की छतरी सी में घुस गए ! अभी अंदर जाने में वक्त लगेगा तब तक थोड़ा सा इतिहास पढ़ते जाते हैं ! जयपुर से करीब 11 किलोमीटर दूर आमेर शहर वैसे तो मीणा लोगों ने बसाया लेकिन इस पर 1550 ईसवी से लेकर 1614 ईसवी तक राजा मान सिंह ने राज्य किया ! लगभग 4 किलोमीटर के क्षेत्रफल में फैला आमेर का किला आज की तारीख़ में राजस्थान का प्रसिद्द पर्यटक केंद्र बन चुका है , हालाँकि प्राइवेट प्रॉपर्टी होने के कारण महंगा भी है ! जब आप इस किले के अंदर प्रवेश करते हैं तो आपको अपने बाईं ओर एक विशालकाय " मावटा झील " दिखाई देगी ! इस किले में "दीवान ए आम ", " दीवान ए ख़ास ", शीश महल , जय मंदिर और सुख निवास हैं ! सुख निवास में ठंडी हवा आने का विशेष प्रबंध किया गया है जिससे राजा -रानियों को "सुख " मिल सके इसीलिए आमेर किले को "आमेर पैलेस " भी कहते हैं ! इस महल में राजपूत राजा और उनके परिवार के लोग रहे ! किले के मुख्य प्रवेश द्वार " गणेश द्वार " के पास में माता सिला देवी का मंदिर है और जो मूर्ति इसमें स्थापित है वो राजा मान सिंह को , जेस्सोर ( अब बांगला देश में है ) के राजा को पराजित करने पर प्रदान की गई थी ! सिला देवी को काली माँ का अवतार माना जाता है ! सिला देवी का मंदिर भले छोटा है लेकिन इसके कपाट , मतलब दरवाज़े बहुत ही सुन्दर हैं !

आगे और इतिहास साथ साथ चलता रहेगा ! हम आमेर फोर्ट में हैं जो यूनेस्को की लिस्ट में शामिल है लेकिन बारिश किसी भी लिस्ट में कभी भी शामिल हो जाती है , भले आप उसे शामिल करो या न करो ! इसे आना है तो आएगी , जाना है तो जायेगी ! मेरी तरह नौ बजे से पांच बजे तक की नौकरी नहीं करती किसी की ! और आज 26 जनवरी के दिन दिल्ली के राजपथ से लेकर यहाँ जयपुर तक बस अगर किसी का राज चल रहा है तो बारिश का चल रहा है ! टीवी पर गणतंत्र दिवस दिखाया जा रहा है , आबूधाबी का कोई प्रधानमंत्री या राष्ट्रपति आया हुआ है !

हमारा आमेर किले तक आने का मुख्य मकसद बच्चों को हाथी की सवारी कराना था लेकिन बारिश की वजह से हाथी बाहर नही हैं आज या फिर बंद कर दिया होगा ! जो देखने , जो करने आये थे वो हुआ नही तो इतनी तेज बारिश में टिकेट लेकर पैसा नही फूंकना चाहेंगे ! तो इस बार माफ़ करियेगा क्योंकि मैं आपको बाहर से ही मतलब जहाँ तक मुफ्त में जा सकते हैं और फोटो खींच सकते हैं , वहीँ तक के फोटो दिखा पाऊंगा ! 

बाहर आ गए ! जयपुर में कोठारी जी के यहां रजत शर्मा ने अमर सागर के बारे में बताया था और कहा था वहां जरूर जाना ! यहाँ ज्यादा लोग नही जाते , मतलब थोड़ी छुपी सी जगह है ! चल दिए ! ऑटो किराये पर लिया , 150 रूपये लिए ! हालाँकि उतना दूर नहीं है और आराम से पैदल जा सकते हैं लेकिन हमें पता भी नही था और बारिश भी हो रही थी ! इसे 17 वीं शताब्दी में बनाया गया और ये उस वक्त जयगढ़ और आमेर फोर्ट के निवासियों के लिए पानी का मुख्य स्रोत था ! जब आप इस रास्ते से जाते हैं तो खेरी गेट के पास " अनोखी म्यूजियम " जरूर देखकर जाइये , हालाँकि हम जिस दिन गए थे उस दिन 26 जनवरी थी और ये बंद था ! अमर सागर लेक जरूर है लेकिन बहुत गन्दी रहती है ! हमें तो अच्छा नहीं लगा यहाँ आना , बाकी सबकी अपनी अपनी पसंद होती है !

आइये आमेर फोर्ट को फोटो के नजरिये से देखते हैं :










































एक टिप्पणी भेजें